Yeh Rishta Kya Kehlata Hai Written Update 24 December 2019 in Hindi

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai Written Update 24 December 2019 में आप सब देखेंगे कि कैसे कार्तिक और नायरा एक दूसरे के साथ कर नायरा के घर पर होते हैं तभी कार्तिक के पिता और चाचू बैचलर पार्टी करने के लिए जा रहे होते हैं तभी वहां पर वेदिका आ जाती है और उन तीनों की बातें सुनने लगती है तीनों बहुत यारा खुश होते हैं तभी वह कार्तिक के बारे में बात करने लगते हैं कि कार्तिक बहुत ही अदा इस शादी को लेकर खुश है आखिर क्यों नहीं होगा क्योंकि नायरा से बहुत ज्यादा प्यार करता है और नायरा उसकी जिंदगी में लौट आई है तो कार्तिक के खुशी का कोई ठिकाना ही नहीं है वेदिका उसकी जिंदगी में चाहे कितना भी रह लेती लेकिन उसके दिल में वह जगह नहीं बना पाती क्योंकि कार्तिक ने कभी भी नायरा की जगह खाली की ही नहीं वेदिका चाकर भी उस दिल में जगह नहीं बना पाती जो खुशी कार्तिक को नायरा दे सकती है शायद विधि का उसे कभी भी नहीं दे पाती वेदिका यह बात सुनकर इमोशनल हो जाती है और आगे चली जाती है वेदिका आगे जाकर देखती है कि उसके कमरे में एक पंडित कुछ कर रहा है तभी विधि का वहीं पर रुक कर यह सब देख रही होती है तब एक कार्तिक की चाची और गायु एक साथ कमरे में पंडित के साथ होती है तभी पंडित कमरे की शुद्धि कर रहा होता है कार्तिक की चाची पढ़ने की से कहती है कि इस कमरे की शुद्धि हो चुकी है अब आप यहां से जा सकते हैं वेदिका यह सब देख कर चौक जाति और कहती है कि मेरे निकलने के बाद कमरे की शुद्धि भी हो रही है तभी वेदिका को इस बात का बहुत ही बुरा लगता है।

Advertisement

Also Read – Yeh Rishta Kya Kehlata Hai 24 December 2019 Latest News

Advertisement

कार्तिक की चाची गायु से कहती है कि इस कमरे का सारा सामान हमें स्टोर रूम में रखवा ना होगा गायु कह दिया कि ऐसा करना जरूरी है क्या हम इसी कमरे में सामान क्यों नहीं रहने दे सकते कार्तिक की चाची कहती है मां जी को तो तुम जानती हो माजी ने हमसे यह सब करने के लिए कहा है और यह करना बहुत ही ज्यादा जरूरी है वेदिका यह सारी बातें सुनती है तो इमोशनल हो जाती है और भागकर कमरे में चली जाती है और वहां पर जाकर होने लगती है और कहती है कि सारे घर वाले इतनी जल्दी मुझे कैसे भूल गए मुझे ऐसा लग रहा है कि मैं यहां पर एक मजबूरी के तौर पर ही रह रही थी सब मुझसे मजबूरी के तौर पर इस रिश्ते को निभा रहे थे सब इतनी जल्दी मुझे कैसे भूल सकते हैं लेकिन मैं अब किसी से भी बात नहीं करूंगी बस कार्तिक से एक बार लास्ट बार में बात करना चाहती हूं कार्तिक से बात करने के लिए वैदिक आभार निकलती है और कार्तिक बार नायरा से फोन पर बात कर रहा होता है कार्तिक नायरा से कहता है कि अब अपना काम कर लो मैं फोन को काट रहा हूं नायरा पूछती है कि कौन सा काम कार्तिक नायरा से कहता है कि अब मैं तुम्हें काम दे रहा हूं वह तुम्हें करना है तुम्हारे कमरे के ड्रॉ में मैंने कुछ रखा हुआ है एक तोहफा तुम उसे जाकर देखो इतनी देर में फोन को काट रहा हूं कार्तिक फोन को काट देता है वेदिका घर से बाहर निकलती है और रोड पर जाने लगती है तभी अचानक वेदिका के सामने से एक तेजी से गाड़ी आ रही होती है कार्तिक यह सब देख लेता है और वेदिका को बचा लेता है और वेदिका को डांटने लगता है उसे कहता है कि तुम यह क्या कर रही थी तुम देख कर नहीं चल सकती तुम्हारे पापा ने तुम्हारी जिम्मेदारी मुझे दिए है कार्तिक वेदिका से बात कर रहा होता है अचानक वेदिका इमोशनल हो जाती है और कार्तिक को गले से लगा लेती है कार्तिक वेदिका के इस बर्ताव को देखकर चौक जाता है।

नायरा जब अपने कमरे में होती है तभी वह एक गिफ्ट को देख रही होती है नायरा जब उसको गिफ्ट को देख रही होती है मोशनल हो जाती है और कहती है कि कार्तिक और मेरा रिश्ता हमेशा ऐसे ही रहेगा जैसे यह एक कपल है हम दोनों हमेशा ऐसे ही आएंगे और हमारे बीच में कोई भी नहीं आएगा इतनी देर में वेदिका नायरा के घर पर पहुंच जाती है और दुखी होकर वहीं पर बार बैठ जाती है और कार्तिक के बारे में सोच सोच कर रोने लगती है तभी वहां पर विधि का के मनी की एक परछाई सामने आ जाती है तभी वह वेदिका से कहती है कि तुम यहां पर बैठकर सिर्फ रोती रहोगी या फिर कुछ करोगी भी सारे घर वालों ने तुमसे ऐसा बर्ताव किया है लेकिन तुम कुछ भी नहीं कर रही हो तुम चाहो तो बहुत कुछ कर सकती हो मेरी का कहती है कि तुम यहां से चली जाओ मैं तुमसे कह रही हूं मैं वैसे भी बहुत ज्यादा परेशान हूं तभी उसकी अंतरात्मा कहती है कि मैं कहीं पर भी नहीं जाऊंगी तुम मेरे नायरा से कह सकती हो अपने आप से दूर जाने के लिए घर वालों से कह सकती हूं अपने आप से दूर जाने के लिए लेकिन मुझसे नहीं कह सकती क्योंकि मैं तुम्हारे अंदर की आवाज हूं तुम चाहकर कभी मुझे अपने आप से दूर नहीं कर सकती वेदिका कह रही है कि सारे घर वालों ने मेरे साथ कुछ भी नहीं किया है सब बहुत ही अच्छे हैं कार्तिक ने भी मेरे साथ कुछ भी नहीं किया है कार्तिक और नायरा ने हमेशा मेरा साथ ही दिया है विधिका की अंतरात्मा कहती है कि यह तुम्हारी गलतफहमी है कार्तिक और नायरा ने हमेशा तुम्हारा फायदा उठाया है तुम्हारी अच्छाई का तुम तो नायरा और कार्तिक इस जिंदगी में से हट गई और सारे घर वालों ने तुम्हें एक दूध में से मक्खी की तरह उठा कर फेंक दिया।

Advertisement

वेदिका उसकी बातों को सुनकर बहुत ही ज्यादा परेशान हो जाती है और उसे वहां से जाने के लिए कहती है लेकिन उसकी अंतरात्मा वहां से जाती नहीं है और वेदिका से कहती है कि जो भी तुमसे पल्लवी ने कहा है वह एकदम सही है तुम अपना डिसीजन बदल दो और कल कार्तिक को डिवोर्स मत दो वेदिका बहुत ज्यादा परेशान होती है उसकी बातों को सुन सुनकर और गुस्से में आ जाती है अचानक उसकी अंतरात्मा उसे सवाल करने लगती है कि यहां कल तुम कार्तिक और नायरा की शादी होने दोगे या फिर अपना डिवोर्स होने दोगी वेदिका मना कर देती है कि मैं कार्तिक डिवोर्स नहीं दूंगी और नायरा और कार्तिक की शादी में नहीं होने दूंगी यह बात सुनकर अंतरात्मा वहां से गायब हो जाती है नायरा उस गिफ्ट को जैसे ही रख कर सोने वाली होती है अचानक वह गिफ्ट हवा की वजह से नीचे गिरने वाला होता है नायरा उस गिफ्ट को बचा लेती है और अपने आप को दिलासा देती है कि कुछ भी नहीं हुआ है सब कुछ अच्छा ही होगा जैसे ही सुबह होती है कार्तिक और नायरा अपनी शादी को लेकर बहुत ही अदा खुश होते हैं कायर्व नायरा से कहता है कि थैंक यू मामा जो आप मेरे लिए मेरे पापा से फिर से शादी करने के लिए मान गई नायरा बहुत ही अदा खुश हो जाती है कार्तिक जैसे ही उठता है तभी उसके बगल में एक नोट पड़ा होता है कार्तिक जैसे उस नोट को पड़ता है उसमें लिखा होता है कि पापा आपको थैंक्यू बोलना चाहता हूं मेरी मम्मा से दोबारा शादी करने के लिए यह सब देखकर कार्तिक बहुत ही ज्यादा खुश हो जाता है और नायरा को फोन कर देता है कायर्व नायरा से कहता है कि मैं अब कमरे से बाहर जा रहा हूं पापा का कॉल आ गया।

Advertisement