ये रिश्ता क्या कहलाता है – 28 अक्टूबर 2019 – वेदिका चौंकाने वाला सच जबकि कायराव, कार्तिक नया प्लान आज का एपिसोड

ये रिश्ता क्या कहलाता है के आज के एपिसोड में आप सब देखेंगे कि कैसे कार्तिक जब नायरा और कायर्व के साथ कमरे में होता है तभी नायरा कार्तिक से कहती है कि काफी टाइम हो चुका है कार्तिक में घर जाना चाहिए क्योंकि वेदिका तुम्हारा वेट कर रही होगी तभी काटते कहता है कि तुम्हें यह बात बोली ज्यादा ही जरूरी थी इसके बाद नायरा माफी मांगते हैं कार्तिक नायरा से कहता है कि आज के बाद तुम ऐसी बातें मत करना नायरा कार्तिक से कहते हैं कि ठीक है आज के बाद मैं ऐसी बातें नहीं करूंगी|

सारे घर वाले जब घर पर पहुंचते हैं तभी वहां पर वेदिका को ना पाकर चिंता में पड़ जाते हैं तभी दादी कहती है कि वेदिका अभी तक क्यों नहीं आई है दादी कार्तिक की मां से कहती है कि तुम्हें उसे अपने साथ ही लेकर आना चाहिए था कार्तिक की मां कहती है कि मैंने उसे चलने के लिए बोला था लेकिन उसने मुझे बताया था कि उसे कुछ जरूरी काम है किसी से मिलने के लिए जाना है एग्जीबिशन के लिए वह वहीं से सिंघानिया हाउस आ जाएगी|

दादी यह बात सुनकर हैरान रह जाती है और कहती है कि अगर वेदिका किसी काम से बाहर गई थी तो वह अभी तक लौटकर क्यों नहीं आई काफी टाइम हो चुका है इतने में गायु कहती है कि ऐसा तो नहीं वेदिका वहां पर आना ही नहीं चाहती इसलिए वह यहां से कहीं और चली गई इतने में वहां पर कार्तिक की चाची आ जाती है और सारे घर वालों से कहती है कि यह चैट मुझे मंदिर मैं से मिली थी तभी वह चिट्ठी कार्तिक को दे दी जाती है|

कार्तिक जब उस चिट्ठी को पड़ता है उसे चिट्ठी में लिखा होता है कि मुझे जरूरी काम से अमेरिका जाना पड़ रहा है मेरी मौसी की अचानक से तबीयत खराब हो चुकी है मेरे पास अचानक से उनका फोन आया और उन्होंने अपनी तबीयत के बारे में बताया मैं यह सोचकर वहां पर जा रही हूं कि उनके सिवा मेरे फैमिली में से कोई भी नहीं है वह मेरे पिता के मरने पर भी नहीं आई थी और अब उन्होंने मुझे फोन करके कहा कि उनकी तबीयत खराब है और वह मुझसे मिलना चाहती है मैं अपने आप को रोक नहीं पाए और उनसे मिलने के लिए जा रही हूं आप सब मुझे इस बात के लिए माफ कर देना|

Also Read – ये रिश्ता क्या कहलाता है – 25 अक्टूबर 2019 – आज का एपिसोड

यह बात सुनकर सारे घर वाले हैरान रह जाते हैं तभी उस चिट्ठी में लिखा होता है कि मैंने आपको यह बात इसलिए नहीं बताई मैं आपका मूड खराब नहीं करना चाहती थी इसलिए मैं सबको बिना बताए जा रही हूं दादी गुस्से में आ जाती है और कहती है कि मुझे वेदिका से उम्मीद नहीं थी एक बार मुझे बता तो देती क्या हम उसे जाने से मना कर देते मुझे नहीं तो कार्तिक को तो एक फोन कर ही सकती थी इतने में कार्तिक के पिता सारे घरवालों से कहते हैं कि हो सकता है वेदिका वाकई में सबका मूड खराब नहीं करना चाहती थी इसलिए वह बिना बताए चली गई |

इतने में कार्तिक की मां सारे घरवालों से कहती है कि एक तरह से अच्छा ही हुआ तभी सारे घर वाले उनकी बातों को सुनकर चौक जाते हैं तभी कार्तिक की मां कहती है कि वैसे भी कार्तिक और कायर्व का एक साथ बर्थडे आ रहा है और हम अच्छी तरीके से जानते हैं कि अगर कायर्व का बर्थडे कार्तिक के बर्थडे वाले दिन ही है तो हम सब कायर्व का ही बर्थडे की सेलिब्रेशन कर रहे होते कार्तिक के बर्थडे पर तो कोई ध्यान नहीं देता और खुद कार्तिक भी अपने बच्चे के बर्थडे की ही तैयारी कर रहा होता और मैं जानती हूं वेदिका को शायद यह सब अच्छा नहीं लगता|

कायर्व अपने खिलौने से खेल रहा होता है तभी वहां पर नक्शा जाता है और कायर्व से कहता है कि मैं भी तुम्हारे साथ खेलता हूं लेकिन कायर्व मना कर देता है और वहां से चला जाता है इतने में नायरा नक्श के पास आती है और उनसे कहती है कि भाई क्या मेरे लिए आप केक का सामान ला सकते हैं मुझे केक बनाना है तभी नक्शा कहता है कि नहीं तुम केक नहीं बनाओगी मैं केक बना लूंगा नायरा कहती है कि नहीं मैं ही केक बनाऊंगी लेकिन नक्शा नायरा से कहता है कि नहीं मैं ही केक बना लूंगा|

नायरा नक्श को बताती है कि ऐसा करते हैं कि हम दोनों ही केक बना लेते हैं नक्शे यह बात सुनकर चौक जाता है तभी नायरा कहती है कि हां इस घर में वैसे भी दो केक बनने ही है एक आप बना लेना और एक मैं बना लूंगी आप कार्तिक के लिए बना लेना मैं कायर्व के लिए बना लूंगी नक्श से बात के लिए मान जाता है कायर्व वंश से जब बात कर रहा होता है तभी बोलता है कि मैं अपने पापा से नफरत करता हूं और मैं अपना बर्थडे अपनी मां के साथ बनाऊंगा पापा के साथ नहीं बनाऊंगा वंश उसकी बात सुनकर उसे कहता है कि मैं भी अपने पापा से नफरत करता हूं|

कायर्व वंश से पूछता है कि आप अपने पापा से नफरत क्यों करते हैं क्या आपको भी पापा ने डांटा वंश बताता है कि हां मेरे पापा ने मुझे भी डांटा था कायर्व कहता है कि क्या सारे एक जैसे होते हैं बताता है कि मेरे पापा तो मुझे हमेशा ही डांटते हैं लेकिन मेरे ब्रो हमेशा मुझे मेरे पापा की डांट से बचाते हैं पता नहीं वह जब से पिता बने हैं वह ऐसे रिजेक्ट क्यों करने लगी है शायद पापा बनकर सब बदल जाते हैं कायर्व कहता है कि लेकिन हमारा कल का प्लान तो फ्लॉप हो गया|

वह कहता है कि वह तो अच्छा हुआ कि तुम बच गए अगर तुम जल जाते तो कायर्व कहता है कि यही तो हमारा प्लान था अगर मुझे चोट लग जाती तो मां मुझे गोवा नहीं ले जाती लेकिन मां ने मुझे वहां पर बचाकर प्लेन सारा खराब कर दिया अब हमें आगे कुछ और सोचना होगा तब वंश कहता है कि वैसे भी तुम्हारा बर्थडे आने वाला है और मुझे नहीं लगता तुम्हारे बर्थडे से पहले मासी तुम्हें लेकर गोवा जाएंगी तब तक तुम जहां पर रहोगे हम कुछ ना कुछ जब तक सोच ही लेंगे|

नायरा नक्श से कहती है कि भाई मैंने कुछ सोचा है आप इस बात के लिए प्लीज नाराज मत होना मैं सोच रही थी कि मैं कुछ काम कर लेती हूं तभी नक्श कहता है कि हां तुम काम कर सकती हो इसमें पूछने की क्या बात है सबको अपने पैरों पर खड़ा होना चाहिए और मैं अच्छी तरीके से जानता हूं कि तुम कायर्व की जिम्मेदारी खुद ही भी उठा सकती हूं इतने में वहां पर दादी आ जाती है नायरा उन्हें अपनी बात बताती है तभी दादी कहती है कि वैसे सही बात है सबको अपने पैरों पर खड़ा होना चाहिए वरना आज तो हम तुम्हारे साथ हैं कल अगर हम तुम्हारे साथ नहीं रहे तो|

इतने में नायरा सारे घरवालों से कहती है कि लेकिन कायर्व का ध्यान कौन रखेगा वह आपको पूरे दिन में परेशान कर देगा दादी कहती है कि हम पूरे दिन में बस घड़ी को ही देखते रहते हैं अच्छा होगा कि हम उसके साथ बच्चे बन जाए और टाइम कैसे गुजर जाएगा हमें पता ही नहीं चलेगा नक्शा से पूछता है कि वैसे तुम एक बात बताओ तुम करोगी क्या क्या तुम ज्वेलरी का काम करोगी या फिर तुमने कुछ और सोचा है नायरा ज्वेलरी की बात सुनकर उसे कार्तिक की बातें याद आने लगती है कि कार्तिक ने किस तरह से उस पर गलत इल्जाम लगाई थी नायरा मना कर देती है कि मैं ज्वेलरी का काम तो नहीं करूंगी मैंने कुछ और सोचा है कि मैं कुछ और ही करूंगी|

नक्शी कहता है कि तो तुम अक्षरा रेस्टोरेंट क्यों नहीं समझ लेती नायरा रहती है कितने टाइम तक मैंने उसकी कोई भी खबर नहीं ली है उसको अब तक कार्तिकी संभालता आया है और मैं अब जाकर उससे अक्षरा रेस्टोरेंट पर अपना हक जाऊंगी तो अच्छा नहीं लगेगा इसलिए मैंने कुछ और करने का डिसाइड किया है कार्तिक अपने घर में कायर्व के बर्थडे को लेकर बहुत एक्साइटेड होता है और उसने कुछ कायर्व के लिए गिफ्ट भी मंगाए होते हैं लेकिन वह अभी तैयार नहीं होते तभी कार्तिक के माता-पिता जैसे ही कार्तिक को देखते हैं तभी वह कहते हैं कि कार्तिक अपने बच्चों को लेकर कितना खुश है|

कायर्व नायरा के फोन में गेम से खेलना होता है नायरा वहां पर आती है और कायर्व से कहती है कि मैं कुछ काम के लिए बाहर जा रही हूं तुम यहां पर दादी के संग रह सकते हो लेकिन कायर्व का कोई रिएक्शन नहीं होता नायरा कहती है कि तुम्हें आखिर क्या हुआ है कोई बात है मम्मा जाए या नहीं कायर्व कहता है कि मां चले जाइए नायरा कहती है कि मैं कार्तिक को बोल देती हूं कि वह यहां पर आ जाए तुम्हारे साथ खेलने के लिए कायर्व यह बात सुनकर हैरान रह जाता है नायरा जब तैयार हो रही होती है तभी इतने मैं कार्तिक का फोन नायरा के फोन पर आ जाता है और वह फोन कायर्व के हाथों में होता है|

कायर्व उसे देख कर चौक जाता है नायरा पूछती है कि किसका फोन है इतने में उस फोन को उसी बेड पर पटक कर चला जाता है लेकिन गलती से वह फोन ऑन हो जाता है कार्तिक नायरा को देखने लगता है लेकिन नायरा कहती है कि कायर्व जी कहां पर चला गया है इतने में नायरा बिना फोन को देखिए तैयार होने लगती है कार्तिक नायरा को देखता है और उसे देखता ही रह जाता है तैयार होकर नायरा जैसी अपना फोन को देखती है तो कार्तिक उस पर नजर आ जाता है तभी नायरा कहती है कि थोड़ी देर के पहले जो फोन आया था वह तुमने ही किया था और जब से तुमने फोन को चालू रखा है तुमने काटा क्यों नहीं जब तुमने देखा कि फोन पर कोई भी नहीं है|

कार्तिक कहता है कि मैंने फोन को काटा था लेकिन कटा नहीं था ना उसकी बात पर विश्वास नहीं करती कार्तिक कहता है कि मैंने फोन को इसलिए नहीं काटा क्योंकि मैं तुम्हें देख रहा था तुमसे नजर ही नहीं आती ना यह बात सुनकर चौक जाती है कार्तिक नायरा से कहता है कि क्या तुम कहीं पर जा रही हो मैं वहां पर आने वाला था नैरा कहती है कि तुम यहां पर आ सकते हो मैं किसी काम से बाहर जा रही हूं कार्तिक कहता है कि मुझे तुमसे ही काम था क्योंकि मुझे तुम्हारी हेल्प चाहिए थी कायर्व के बर्थडे की तैयारी करने में|

नायरा कार्तिक से कहती है कि मैं तुम्हें कुछ बताना चाहती हूं मैंने कुछ डिसाइड किया है कि मैं अब कुछ काम करना चाहती हूं कार्तिक कहता है कि यह बात तो बहुत अच्छी है कि तुम कोई काम करना चाहती हूं हमेशा सबको अपने पैरों पर खड़ा होना चाहिए सबको काम करना ही चाहिए तभी कार्तिक को पुरानी बातें याद आ जाती है उसने जब नायरा पर इल्जाम लगाए थे नायरा की आंखों में आंसू आ जाते हैं नायरा कार्तिक से कहती है कि मैं तुमसे थोड़ी देर के बाद बात करूंगी

Add Comment