Tv Show Yeh Rishta kya kehlata Hai

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai Written Update 23 December 2019 in Hindi

yeh rishta kya kehlata hai 6 January 2020
Written by Rajeev

Yeh Rishta Kya Kehlata Hai Written Update 23 December 2019 में आप सब देखेंगे कि कैसे कार्तिक और कायर्व अपने अपने हाथों पर मेहंदी लगवा रहे होते हैं नायरा कहती है कि वेदिका कहां है कार्तिक नायरा से कहता है कि तुम वेदिका की चिंता मत करो वेदिका ठीक होगी वह कमरे में ही होगी बस थोड़ी देर में आ जाएगी अगर तुम्हें कुछ उसकी ज्यादा ही चिंता हो रही है तो हम मेहंदी के बाद एक बार उससे मिलने के लिए चले जाएंगे नायरा सारे घरवालों से कहती है कि मेहंदी का फंक्शन है और कोई भी डांस नहीं कर रहा है तभी नायरा को डांस करने के लिए बोल दिया जाता है नायरा डांस करने लगती है वेरी का यह सब देखकर इमोशनल हो जाती है तभी वहां पर कार्तिक भी आ जाता है और नायरा के संग डांस करने लगता है

वेदिका कार्तिक और नायरा को जब संग में देती है तो गुस्से में आ जाती है नायरा की नजर वेदिका पर पड़ जाती है वेदिका की आंखों में आंसू देख कर कुछ भी समझ नहीं पाती वेदिका नाराज होकर घर से बाहर की तरफ जा रही होती है तभी नायरा वेदिका को रोकने की कोशिश करती है और उससे कि पूछती है कि क्या हुआ है तभी वेदिका नायरा पर चला जाती है नायरा यह सब देख कर चौक जाती है वेदिका सॉरी कहकर बाहर की तरफ चली जाती है नायरा वेदिका के बारे में सोचने लगती है वेदिका की सांसे फूल रही होती है तभी वहां पर पल्लवी आ जाती है और वेदिका की हालत को देखकर घबराने लगती है अमेरिका से पूछती है कि आखिर क्या हुआ है मैंने तुझसे पहले ही मना किया था कि जो इतना आसान नहीं है अब तू मेरे साथ चल और मेरे साथ ही तुझे रहना होगा वेदिका रोने लगती है।

Also Read – Yeh Rishta Kya Kehlata Hai 23 December 2019 Latest News

पल्लवी वेदिका से पूछती है कि मैं जानती हूं कि तू क्यों परेशान है मैंने तो तुझसे पहले ही मना किया था एक और बार सोच ले लेकिन तूने मेरी एक भी नहीं मानी और से आज तेरे संग क्या हो रहा है आज भी तेरे पास वक्त है वेदिका कहती है कि कल ही नायरा और कार्तिक की शादी है और कल ही के दिन ही मेरा और कार्तिक का डिवोर्स होने वाला है मैं यह सब देख नहीं पा रही हूं मुझ पर कुछ भी सेंड नहीं हो रहा है पल्लवी कहती है कि तू चाहती है तो वही डिवोर्स नहीं होगा तो किसी के बारे में भी मत सोच मैं जानती हूं कि इस वक्त तू क्या सोच रही होगी कि तू सेल्फिश हो रही है लेकिन इसमें कोई सेल्फिश वाली बात नहीं है मुझे नहीं लगता कि इसे सेल्फिश हो ना कहते हैं सेंड स्टोन नायरा कार्तिक और सारे घर वाले भी हैं जिसने तेरा फायदा उठाया तूने तो कार्तिक और नायरा को पास लाने के लिए भी उनके बीच में से भी हट गई थी लेकिन सारे घर वालों ने तेरे साथ क्या किया तुझे आसानी से निकाल कर फेंक दिया लेकिन तेरा जो भी फैसला होगा मुझे मंजूर होगा मैं तेरे साथ हूं।

दादी जब पानी पी रही होती है वहां पर नायरा जाती है और दादी से पूछती है कि दादी आप वेदिका के संग ऐसा व्यवहार क्यों कर रही है दादी नायरा से कहती है कि कोई भी मेरी बातों को समझ नहीं पा रहा है और कोई समझ भी नहीं पाएगा मैंने काफी ज्यादा दुनिया देखी है इसलिए मैं अपने अनुभव से बता सकती हूं कि वेदिका के मन में कुछ ना कुछ तो चल रहा है इसलिए मैं वेदिका के संग ऐसा व्यवहार कर रही हूं मैंने तो पहले ही मना किया था घर में वेदिका को लाने के लिए लेकिन कोई भी मेरी बात नहीं सुनता अब जो भी होगा वह भुगतना पड़ेगा दादी इतना कहकर वहां से चली जाती है नायरा सोचने पर मजबूर हो जाती है कि दादी आखिर कहना क्या चाहती थी नायरा वेदिका से मिलने के लिए बाहर चली जाती है और वेदिका को डॉक्टर पल्लवी के साथ देख कर चौक जाती है पल्लवी नायरा को उसके शादी की बधाई देती है और उसे बताती है कि मैं यहां पर किसी परसेंट से मिलने के लिए आई थी इसलिए मैंने सोचा मैं वेदिका से भी मिलती चालू नायरा पल्लवी से कहती है कि तुम दोनों अंदर क्यों नहीं चलती डॉक्टर पल्लवी नायरा की बातों को सुनकर उसे कहती है कि नहीं मैं अंदर नहीं जाना चाहती क्योंकि मुझे एक पेशेंट को भी देखने के लिए जाना है इसलिए मैं चलती हूं पल्लवी वहां से इतना कह कर चली जाती है नायरा वेदिका से पूछती है कि आखिर क्या बात है तुम कुछ परेशान से लग रही हो वेदिका नायरा की बातों को सुनकर उससे कहती है कि कोई बात नहीं है इतना कहकर वेदिका घर के अंदर चली जाती है वहां पर कार्तिक अपनी मेहंदी को सबको दिखा रहा होता है कि मेरी मेहंदी का कलर कितना डार्क आया है इसका मतलब नायरा मुझसे बहुत ज्यादा प्यार करती है वेरी का की आंखों में और भी ज्यादा आंसू आने लगते हैं।

सारे घर वाले कहते हैं कि यह मेहंदी तो हम सब ने भी लगाई है लेकिन ऐसा कलर तो किसी के हाथों में नहीं आया है जो कार्तिक के हाथों में आया है वेदिका यह सब सुन नहीं पाती और अपने कमरे में चली जाती है वेदिका जब अंधेरा करके अपने कमरे में लेट रही होती है नायरा इतनी देर में कमरे में आ जाती है वेदिका नायरा को देख कर चौक जाती है और उससे पूछती है कि नायरा तुम यहां पर नायरा वेदिका से पूछती है कि जैसा तुमने कमरे में अंधेरा करके रखा है क्या तुमने अपने अंदर भी ऐसा ही अंधेरा करके रखा है वेदिका यह बात सुनकर चौक जाती है नायरा वेदिका से कहती है कि मैं जानती हूं कि तुम्हारी दिल पर अभी क्या गुजर रही होगी मैं कार्तिक और तुम एक ऐसे हैं कि हम दोनों तीनों एक दूसरे से सब कुछ शेयर कर लेते हैं इसलिए तुम्हारे दिल में जो भी है तो तुम मुझे बता सकती हो वेदिका कहती है कि नहीं मेरे दिल में कुछ नहीं है और नायरा को जाने के लिए बोल देती है नायरा कमरे से चली जाती है दुखी होकर और वेदिका के बारे में सोचने लगती है।

वेदिका जब घर में कुछ सामान लेकर आ रही होती है दादी कार्तिक की मां से कहती है कि कोई मेरी बात समझने की कोशिश क्यों नहीं कर रहा है वेदिका के दिल में कुछ ना कुछ तो चल रहा है मैं वेदिका के बारे में जो भी सोच रही हूं वह सही सोच रही हूं वेदिका पहले जैसी नहीं रही है जैसे वह पहले बर्ताव करती थी लेकिन वह अब ऐसे बर्ताव नहीं करती है वेदिका इतनी देर में वहां पर आ जाती है और दादी से कहती है कि मैं गायु दीदी के लिए कुछ सामान लेकर आई हूं वह कहां पर है कार्तिक की मां बताती है कि गायु तो अपने कमरे में है तभी वेदिका दादी से कहती है कि दादी आप मेरे बारे में ऐसा सोचती है मैंने तो यह सोचा ही नहीं था दादी बिना कुछ कहे वहां से चली जाती है कार्तिक की मां वेदिका से कहती है कि तुम दादी को अच्छी तरीके से जानती हो कि उनका बर्ताव कैसा है तुम उनकी बातों को जरा भी दिल पर मत लेना।

About the author

Rajeev

Rajeev Kumar Saini