Nazar Written Update 30 December 2019

Nazar Written Update 30 December 2019 Today Episode में आप सब देखेंगे कि कैसे सारे घर वाले उसे अदृश्य आदमी से बहुत ही ज्यादा परेशान होते हैं और कमरे में जाकर दुबक जाते हैं जब तक निशांत जी और ऑफिसर एक जंगल में जाते हैं और वहां पर जाकर ऑफिसर को निशांत जी बताते हैं कि यहां पर हम इस मूर्ति को लेकर इसलिए आए हैं ताकि यह मोती रिचार्ज कर सकें नील भारद्वाज पक्षी इस मोती को रिचार्ज कर सकते हैं लेकिन अभी फिलहाल जी सारे पक्षी सो रहे हैं लेकिन भारद्वाज पक्षी चमक रहे हैं थोड़ी देर के बाद सूरज निकलने ही वाला है और यह सारे पक्षी नींद से जाग जाएंगे और इसके बाद से ही यह मोती रिचार्ज हो जाएगा थोड़ी देर के बाद पिया निशांत जी को फोन लगाती है

Advertisement

Also Read – Nazar 30 December 2019 Latest News

Advertisement

और उनसे पूछती है कि हम इस अदृश्य आदमी से बचने के लिए आखिर करें क्या लेकिन एक अजीब सी चीज हुई थी परी के टेबलेट पर एक म्यूजिक चल रहा था जिसकी वजह से उसको सुनते ही यह अदृश्य आदमी थोड़ी देर के लिए शांत हो गया था लेकिन टेबलेट में जैसे चार्जिंग खत्म हो गई थी तब यह आदमी फिर से गुस्से में आ गया और जो हम पर हमला करने वाला है तभी निषाद जी पिया से कहते हैं कि जब तक मैं वहां पर नहीं आ जाता तब तक तुम उसको वही म्यूजिक सुनाओ ताकि वह थोड़ी देर तक शांत रहे और वहां पर पहुंचकर सब कुछ ठीक कर दूंगा थोड़ी देर के बाद पिया सारे घरवालों को यह सारी बातें बता देती है तभी वहां पर जैसे ही वह आदमी आता है तभी वहां पर म्यूजिक को सुनकर उसके पास जाकर खड़ा हो जाता है सारे परिवार वाले मौका देखकर उस कमरे से बाहर चले जाते हैं।

निशांत जी नील भारद्वाज पक्षी को उठने का इंतजार कर रहे होते हैं तभी सुबह होते ही सारे पक्षी उठ जाते हैं निशांत जी उस मूर्ति को सामने रखते हैं और वह रिचार्ज होने लगती है और सूरज की रोशनी जैसे होती पर पड़ती है तभी वह मोती चमक उठता है और वह हवा में उड़ने लगता है भारद्वाज पक्षी उसके उसके इर्द-गिर्द घूमने लगते हैं और वह मोती रिचार्ज हो जाता है निशांत जी जब उस मोती को अपने हाथों में लेने वाले होते हैं तभी ऑफिसर उस मूर्ति को अपने हाथों में ले लेता है और निशांत जी से कहता है कि आपने जो करना था आपने कर लिया लेकिन अब जो करना है मैं ही करूंगा यह बात सुनकर निशांत जी चौक जाते हो और ऑफिसर से पूछते हैं कि आखिर तुम करने क्या वाले हो तभी ऑफिसर निशांत जी से कहता है कि इस मूर्ति के जरिए मैं अब जो करूंगा तो करूंगा लेकर आप कुछ भी नहीं करेंगे पिया के घर जाना है तो मैं खुद जाकर सब कुछ संभाल लूंगा आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है निशांत जी ऑफिसर को समझाने की कोशिश करते हैं और ऑफिसर वहां से निशांत जी को हथकड़ी पहना कर चला जाता है निशांत जी कहते हैं कि यह जाने आगे क्या करने वाला है अगर वहां पर जाकर कुछ भी गड़बड़ हो गई तो वह अदृश्य आदमी गुस्से में आ जाएगा और उसे कोई भी नहीं रोक पाएगा मुझे यहां से किसी भी तरह से निकलना ही होगा निशांत जी वहां पर एक तार देखते हैं जिससे वह घड़ी को खोल लेते हैं और वहां से चले जाते हैं सारे घर वाले जब दरवाजे के बाहर खड़े होते हैं तभी वह सोचते हैं कि आखिर यह गाना जैसे ही खत्म होगा तभी यह आदमी फिर से गुस्से में आ जाएगा हमें कुछ तो करना ही होगा इसे रोकने के लिए।

Advertisement

पिया कहती है क्यों मुझ पर एक तरीका है जिससे हम इस आदमी को जब तक रोक सकते हैं तब तक यहां पर पापा नहीं आ जाते पिया घर वालों को बताती है कि यह अदृश्य आदमी अगर इसे म्यूजिक पसंद है तो इसका मतलब यह बिल्कुल हमारे इंसानों की तरह ही है हमें जो फील होता है वह इसे भी फील होता होगा तभी सारे घर वाले पिया की बात समझ नहीं पाते तभी पिया कहती है कि जब हमें गर्मी लगती है तो इसे भी गर्मी लगेगी और अगर हमें ठंड लगती है तो इसे भी ठंडे जरूर लगेगी अंश पिया से कहता है कि तुम कहना क्या चाहती हो तभी पिया अंश से कहती है कि हमें अगर ठंड लगती है तो हम क्या करते हैं तभी अंश कहता है कि मैं समझ गया तुम क्या कहना चाहती हो विदेश्री कमरे के दरवाजे को खोलती है और एसी के टेंपरेचर को बढ़ा दे दी है जिससे कमरे में ठंड होने लगती है अंश इतनी देर में वहां पर एक बाल्टी में भरकर बर्फ ले आता है सारे घर वाले कहते हैं कि अगर हमने यह अदृश्य आदमी पर फेंकी दो वह फिर से क्रोधित हो जाएगा अंश कहता है कि जी उसके लिए नहीं है तभी उस बाल्टी को दरवाजे के सामने रख देता है पिया अपनी दैविक शक्ति का इस्तेमाल करती है और उस पार्टी में से बर्फ की सारी ठंड अंदर दरवाजे के नीचे से जाने लगती है तभी उस आदमी को तेजी से ठंड लगने लगती है अंश कहता है कि हमारा प्लान कामयाब हो रहा है तभी वह आधी और परी को कहता है कि अब तुम्हारी बारी है काम करने की तभी आदि अलमारी में से एक जैकेट को निकालता है और दीवार के पार उस जाकिर को ले जाता है और उसे जाकेट को लेकर खड़ा हो जाता है तभी वहां पर अदृश्य याद में आ जाता है और उस जाकेट को लेने की कोशिश करता है लेकिन इतनी देर में आदि का हाथ जैकेट में फंस जाता है।

आदि अपना हाथ निकालने की कोशिश करता है थोड़ी देर के बाद ही चिल्लाने लगता है तभी पिया और अंश कहते हैं कि चिल्लाने की आवाज कहां से आ रही है तभी अंश और पिया अंदर चले जाते हैं और वहां पर देखते हैं कि आधी का हाथ उस जाकेट में फस चुका है तभी पिया और अंश कमरे में जाते हैं और आधी से कहते हैं कि आधी अपना हाथ निकालो आधी कोशिश करता है अपने हाथ को निकालने की और वह कामयाब हो जाता है अपने आप को निकालने में तभी पिया और अंश कमरे से बाहर आ जाते हैं और अदृश्य आदमी उस जाकेट को पहन लेता है पिया कहती है कि हमें इस घर से बाहर निकल जाना चाहिए तभी विदेश्री कहती है कि अगर हम घर से बाहर निकल जाते हैं तुझे अदृश्य आदमी भी घर से बाहर निकल जाएगा और जो औरों के लिए खतरा बन सकता है इसलिए हम घर से बाहर नहीं जाएंगे लेकिन अंश कहता है कि लेकिन मुझे लगता है पिया ठीक कह रही है हमें अभी तो फिलहाल इस घर से निकल जाना चाहिए सारे घर वाले जब वह घर के बाहर जा रहे होते हैं तभी अचानक म्यूजिक बंद हो जाता है और वह अदृश्य आदमी उनके सामने जाकर खड़ा हो जाता है और उन्हें मारने के लिए टेबल को उठाता है पिया उसे रोकने की कोशिश करती और से पूछती है कि आखिर तुम्हारी क्या दुश्मनी है हमसे जो तुम इस तरह से हम से बर्ताव कर रहे हो अदृश्य आदमी पिया की एक भी नहीं सुनता और उन पर उस कुर्सी से हमला करने वाला होता है तभी वहां पर निशांत जी आ जाते हैं और उस को रोकते हैं और उसे कहते हैं कि तुम्हें जो भी करना है तुम मेरे साथ करो क्योंकि तुम्हारे साथ जो भी हुआ है वह मैंने ही किया है तभी अदृश्य आदमी कहता है कि आपकी ही गलती आपने मुझे 20 सालों तक नींद में रखा है आप की गलतियों की वजह से आज मैं यह सब भुगत रहा हूं पिया और सारे घर वाले यह बात सुनकर चौक जाते हैं निशांत जी अदृश्य आदमी से कहते हैं कि तुम मेरी बात सुनो और मेरे साथ चलो तुम्हें जो करना है तुम मेरे साथ कर लेना अदृश्य आदमी उसको नीचे रखता है और निशांत जी के साथ चलने के लिए राजी हो जाता है तभी वहां पर वह ऑफिसर आ जाता है और उसके सामने बंदूक को तानकर खड़ा हो जाता है।

सेवी अपने ऑफिस में होती है तभी वहां पर सीसीटीवी कैमरे के रूम में चली जाती है और वहां पर जाकर देखती है कि सारे कंप्यूटर चालू है और वह कंप्यूटर को बंद करने की कोशिश करती है और कहती है कि जिन नमन बिना कुछ भी याद नहीं रखता है और यह कंप्यूटर को भी बंद करना भूल गया है तभी सेवी के सामने एक वीडियो आती है जिसमें वह ऑफिसर प्राण प्याले को खोल रहा होता है अचानक से उसमें से थोड़ी सी प्राण बाहर निकल जाते हैं मोहना के यह सब देखकर सेवी चौक जाती है और कहती है कि इसका मतलब प्राण प्याले में से थोड़े से प्राण मोहना के बाहर निकल चुके हैं और मैंने जो देखा था मोहनाको वह सही था सेवी यह बात बताने के लिए नमन के पास चली जाती है और वहां पर जाकर देखती है कि डफली अपने कमरे में रो रही होती है सेवी डफली को देखती है उसे अपनी गोद में उठा लेती और कहती है कि नमन आखिर गया कहां है नमन तो कभी भी अपनी बेटी को अकेला नहीं छोड़ता है फिर आखिर डफली को किले छोड़कर जग गया कहां है तभी सेवी को सब कुछ याद आ जाता है कि ऐसा तो नहीं नमन को मोहना ने अपने बस में कर लिया है जो काम हो मुझसे करवाना चाहती थी वह नमन से कारोबा रही है मुझे नमन को रोकना ही होगा नमन बांदाब के मंदिर में पहुंच जाता है और वहां पर उस दरवाजे को खोलकर सीधे अंदर चला जाता है और वहां पर जाकर प्राण प्याले को मोहनाको देने वाला होता है इतनी देर में वहां पर सेवी पहुंच जाती है और नमन को उस में लाने की कोशिश करती है लेकिन नमन अपने वश में नहीं आ पाता सेवी कहती है कि मुझे शोर करना होगा जिसकी वजह से नमन के सिर पर जो मोहना का असर है वह खत्म हो सकता है सेवी वहां पर घंटे को बजाने लगती है जिसकी वजह से नमन के ऊपर से मोहना का असर खत्म हो जाता है लेकिन इतनी देर में नमन के हाथों से प्राण प्याला छूट जाता है और वह मोहना के पास चला जाता है।

Advertisement