Nazar Written Update 13 December 2019 In Hindi

Nazar Written Update 13 December 2019 Today Episode में आप सब देखेंगे कि कैसे अंश और पिया डायनद्वीप के पास पहुंच जाते हैं और वहां जाकर उस डायनद्वीप को देखने लगते हैं लेकिन पिया को वह डायनद्वीप दिख जाता है और वह अंश को उसे डायनद्वीप के बारे में बताती है तभी वहां पर निशांत जी से भी और नमन पहुंच जाते हैं शर्फफिका भी वहीं पर ही होती है पिया कहती है कि हम इस डायनद्वीप के ऊपर कैसे जाएंगे अंश कहता है कि अगर मेरे पास पंख होते तो मैं जा सकता था लेकिन अभी मुझे कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है थोड़ी देर के बाद ऊपर से दिलरुबा गैरों सी की हालत में नीचे गिर रही होती है तभी वहां पर नमन आ जाता है और दिलरुबा को अपनी गोद में कैच कर लेता है।

Advertisement

दिलरुबा की हालत को देखकर सभी घबरा जाते हैं और नमन दिलरुबा से कहता है कि मुझे माफ कर देना जो मैंने तुम्हारी बात नहीं सुनी और मैंने तुम पर शक किया दिलरुबा नमन से कहती है कि मुझे माफ कर देना जो मैंने पहले किया मुझ पर और कोई रास्ता नहीं था अपने बच्चे को बचाने के लिए यह सब मैंने किया पहले मैंने मोहना का संग इसलिए दिया था कि मैं अपने बच्चे को बचा सकूं अब मैंने चुड़ैल वादा तोड़ कर आपकी ईमानदारी को सलामत रखा है नमन रोने लगता है दिलरुबा से कहता है कि मैं तुम्हें कुछ भी नहीं होने दूंगा तभी दिलरुबा हंसते हुए नमन से कहती है कि हमारी बच्ची है ना डफली आप हमसे वादा कीजिए कि अपना और हमारी बच्ची का ख्याल रखेंगे दिलरुबा पिया और अंश से कहती है कि परी को तुम दोनों जल्दी बचा लो वह मोहना के पास है इतना कहकर दिलरुबा खत्म हो जाती है नमन उसे मरता हुआ देख कर रोने लगता है।

Advertisement

Also Read – Nazar Latest News

मोहना जब चांद का इंतजार कर रही होती है तभी वह कहती है कि मैं जानती हूं कि पिया और अंश मुझसे पहुंचने की कोशिश जरूर करेंगे इसलिए इस प्राण प्याले में मैं अपना खून मिला देती हूं वह चाह कर भी कुछ नहीं कर सकते और जैसे ही चांद की रोशनी नीलहीम पर पड़ेगी वैसे ही मैं अपनी आगे की वेदश्रीश्री शुरू कर दूंगी पिया और अंश जब डायनद्वीप के नीचे खड़े होते हैं तभी पिया के ऊपर नीलहीम का पानी आ जाता है तभी वह डर जाती है और उन वाक्य उसके बारे में बताती है कि नीलहीम निकल रही है इतना सुनकर अंश भी घबरा जाता है और वह कहता है कि आखिर अंक ऊपर कैसे जाएंगे पिया कहती है कि एक बार मैं कोशिश करके देख लेती हूं कि आप रिजेक्ट शक्तियों का इस्तेमाल करती है लेकिन वह ऊपर नहीं जा पाती निशांत जी बताते हैं कि तुम दोनों को देखकर ऐसा लग रहा है कि तुम दोनों की शक्तियां खत्म हो चुकी है शर्फफिका कहती है कि मैं तुम दोनों की मदद कर सकती हूं ऊपर पहुंचने में।

Advertisement

शर्फफिका अपने वहां पर काफी सारे सर्फ को बुला लेती है वह सारे एक साथ मिलकर काफी लंबा और बड़ा सर्प बन जाता है सारे घरवाले जब अंश और पिया को लेकर परेशान होते हैं तभी वेदश्रीश्री कहती है कि हम कुछ कर नहीं सकते तो क्या हुआ लेकिन हम एक काम जरूर कर सकते हैं भगवान के आगे प्रार्थना तीनों चारों जने जब भगवान के आगे प्रार्थना कर रहे होते हैं तभी विदेश्री की नजर अंगूठी के टूटे टुकड़े पर पड़ जाती है वेदश्री उसे उठाकर कहती है कि यह तो उसी अंगूठी का टुकड़ा है हमें इसके बारे में निशांत जी को बता देना चाहिए निशांत जी को जैसे ही बताया जाता है वहां पर उस टुकड़े को देखने के लिए आ जाते हैं टुकड़े को देखकर निशांत जी बताते हैं कि यही वही हथियार है जिसके बारे में मैंने आप सब को बताया था वेदश्री कहती है कि इस छोटे से टुकड़े से काम हो जाएगा निशांत जी बताते हैं कि यह टुकड़ा ही असली हथियार है बाकी तो वह अंगूठी है इस हथियार को छुपाने के लिए।

सारे घरवाले पूछते हैं कि आखिर हमें इसे हथियार को कैसे बनाना चाहिए निशांत ही बताते हैं कि इस हथियार को भी बनाने का एक तरीका है वही तरीका हमें करना होगा निशांत तीन जनों के हाथों में शंख दे देते हैं और उसमें जल भर देते हैं तभी निशांत जी कहते हैं कि जब इन तीनों काजल एक साथ इस अंगूठी के टुकड़े पर पड़ेगा तो हथियार बन जाएगा तीनों उस पर जलने लगते हैं थोड़ी देर के बाद वह चक्र बन जाता है और वह हवा में उड़ने लगता है सब उसे पकड़ने की कोशिश करते हैं लेकिन वह नाकामयाब हो जाते हैं तभी वहां पर आदि आ जाता है और उसे हथियार को पकड़ लेता है उसकी मदद सारे घर वाले करने लगते हैं वह हथियार को पकड़ने में और निशांत जी से सारे घरवाले पूछते हैं कि आखिर हमें इस हथियार को पिया और उनसे तक कैसे पहुंचाना होगा निशांत यह बताते हैं कि इस हथियार को हमें पिया और अरशद तक नहीं पहुंचाने की जरूरत है क्योंकि यह हथियार खुद मोहना का है और यह मोहना को ढूंढ लेगा और हमने ऐसे जगह है तो इसका मतलब जी मोहना को जाकर खत्म कर देगा आदि कहता है कि यह काम तो मैं ही करूंगा।

और होशियार को बालकनी में ले जाता है और उसे मोहना की तरफ छोड़ देता है पिया और अंश उस बड़े से सर्प के सिर पर बैठ जाते हैं और ऊपर चले जाते हैं मोहना जैसे ही प्राण प्याले को खाने वाली होती है तभी वहां पर और अंश पहुंच जाते हैं पिया मोहना उन दोनों को देख कर चौक जाती है और उनसे कहती है कि तुम दोनों कुछ भी नहीं कर पाओगे मैं जानती थी कि तुम दोनों को बेटी का प्यार जरूर खींच लाएगा लेकिन मैं तुम दोनों को देखकर हैरान भी नहीं हूं अब मैं इस प्राण पैरों को पीकर परी की शक्तियां ले लूंगी इतना सुनकर अंश मोहना पर पाताल केतकी फेंक देता है और पिया अपने देव एक चाकू मोहना परमार देती है तभी मोहना कमजोर होने लगती है लेकिन उसे कुछ भी नहीं होता और वो उनसे कहती है कि तुम यहां पर अपनी बेटी को बचाने के लिए आए हो या फिर खुद मरने के लिए।

मोहना इतना कहकर उन दोनों पर बाहर करने के लिए अपने कदम आगे बढ़ाती है तभी वहां पर वह चकरा जाता है और मोहना की चोटी काट देता है और मोहना कि जैसे ही छोटी कटती है तभी उसके हाथों से प्राण प्यारा छूट जाता और वह और नीचे गिरने वाला होता है पिया भागते हुए प्राण प्याले को पकड़ लेती है और मुझे नीचे गिरने वाली होती है तब वहां पर अंश आ जाता है और पिया को पकड़ लेता है और ऊपर खींच लेता है तभी वहां पर शर्फफिका आ जाती है अपनी फौज के संग और मोहना को पकड़ लेती है अंश और पिया अपनी बेटी के पास जाते हैं और उसे जिंदा कर देते हैं परी उन दोनों को अपने गले से लगाती है उधर नमन अपने घर सेभी के साथ पहुंचता है तो वहां पर अपनी बच्ची को देखता है बच्चे को अपनी गोद में उठाता है और इमोशनल हो जाता है और वह सेवी से कहता है कि यह मेरी बच्ची है।

अंश और पिया सारे घरवालों और निशांत जी के संग उसी मंदिर में मोहना को लेकर पहुंच जाते हैं और उसी ताबूत में बंद कर देते हैं अंश अपने हाथों में कील लेता है और मोहना की तरफ बढ़े नहीं लगता है और मोहना को देखकर कहता है कि पहले मुझ पर गलती हो गई थी क्योंकि मैंने जी की ढंग से नहीं लगाई थी क्योंकि मैं यह सोच रहा था कि मुझ पर बहुत बड़ी गलती हो चुकी है लेकिन जब मुझे सब कुछ पता चल चुका है तू मैं पहले जैसी गलती नहीं करूंगा स्किल को ठोकने में अंश वकील को अच्छी तरीके से घर देता है मोहना उसे रोकने की कोशिश करती है तभी विदेश्री अंश से कहती है कि अंश इसकी एक भी मत सुनना इसने बहुत बड़ी गलती की है परी को मारने की इसकी सजा तो इसे मिली ही होगी।

Advertisement