Nazar Aaj Ka Episode 30 October 2019 – मोहना का दिवाली गिफ्ट

नजर सीरियल के आज के एपिसोड में आप सब देखेंगे कि कैसे दिवाली के लिए पिया जब तैयार हो रही होती है तभी वहां पर अंश आ जाता है और पिया से कहता है कि पापा का मान रखने के लिए हमने इस घर में मोनाको रख तो लिया है लेकिन मुझे उस पर बिल्कुल भरोसा नहीं है जरूर उसका कोई ना कोई मकसद जरूर है पिया कहती है कि मुझे ऐसा नहीं लगता हो सकता है मोना वाकई में इस घर के लोगों से मिलना चाहती हूं इसलिए वह लौट कर आई है और वैसे भी मोना अगर बाहर रहेगी तू हम उस पर नजर नहीं रख पाएंगे घर में रहेगी तो उस पर अच्छे से नजर रख सकते हैं।

मोना जब पड़ोसियों के घर में देख रही होती है तो उसे डायन की छाया दिखाई देती है तभी मोना कहती है कि मेरा सत्य ही सही था इस घर के आस-पास एक डायन रहती है जिस डायर ने देव की मदद की थी मुझे उसके बारे में पता लगाना होगा कि आखिर वह चाहती क्या है और इस घर से उसे क्या लेना देना है इतनी देर में बालकनी में मोना आकर खड़ी हो जाती है और पता लगाने की कोशिश जब कर रही होती है तभी वहां पर आदि और परी आ जाते हैं और मोना से कहते हैं कि दादी आप भी हमारे साथ चलिए पूजा होने वाली है मोना मना कर देती है और कहती है कि नहीं मैं नहीं आऊंगी तुम दोनों मेरे ऊपर नजर रख रहे हो परी कहती है कि नहीं ऐसा नहीं है दादी मैं तो आपको बुलाने के लिए आई थी आप चलिए हमारे साथ परी और आधी मोना को वहां से ले जाते हैं ।

सारे घर वाले जैसे ही पूजा के लिए मंदिर की तरफ बढ़ रहे होते हैं तभी परी और आदि अपने परिवार के पास चले जाते हैं तभी सारे घर वालों की नजर मोना पड़ जाती है परी और आधी मोना को शामिल होने के लिए कहते हैं मोना मना कर देती है वेद श्री इतनी देर में मोना को ताने देने लगती है मोना यह बात सुनकर हैरान रह जाती है और वहीं पर खड़ी रह जाती है सारे घर वाले आगे बढ़ने की कोशिश करते हैं मोना को डायन मंत्र की आवाज सुनाई देने लगती है तभी मोना कहती है इसे घर में डायन मंत्र कौन पढ़ रहा है ।

Also Read – Nazar Aaj Ka Episode 29 October 2019

मोनू इस मंत्र को ध्यान से सुनने लगती है इतनी देर में सारे घर के दिए बुझ जाते हैं और उनमें से काला दुआ उड़कर बाहर जाने लगता है मोना उस दोनों को देख कर चौक जाती है सारे घर वाले सारे दीयों को देखते हैं तब वह चौक जाते हैं और मोना पर इल्जाम लगाना शुरु कर देते हैं कि यह किसी और की वजह से नहीं बल्कि मोना की वजह से ही हुआ है मैं जानती हूं कि मोना यहां पर किसी मकसद से जरूर आई है हम इसी से पूछ लेते हैं विधि श्री जमुना से कुछ पूछने वाली होती है तभी वहां से मोना गायब हो जाती है सारे घर वाले मोना को वहां पर ना देख कर परेशान होने लगती हैं।

मोना बालकनी में खड़ी होती है तभी वह देखती है कि काला धुआं पड़ोसियों के घर में जा रहा है मुझे वहां पर जाकर देखना होगा मोना जैसे ही वहां से जाने की कोशिश करती है तभी वहां पर सारे घर वाले आ जाते हैं और परी अपने की मदद से मोना को पकड़ लेती है सारे घर वाले मोना से पूछते हैं कि आखिर तुम यहां पर किस मकसद से लौट कर आई और घर के सारे दिए बुझ गए मोना सारे घरवालों से कहती है कि यह मैंने नहीं किया है बल्कि किसी और ने किया है सारे घर वाले यह बात सुनकर चौक जाते हैं तभी वह कहते हैं कि हम तुम्हारी बात पर क्यों भरोसा करें यह सब तुमने ही किया है ।

चेताली देखती है कि दरवाजे की विधियां भूल चुके हैं तभी वह कहती है कि मुझे दरवाजे की दिए जला देनी चाहिए कम से कम दिवाली के दिन तू अंधेरा नहीं होना चाहिए तभी चैताली जिओ को जलाने के लिए बाढ़ चली जाती है तभी वह देखती है पड़ोस का दरवाजा खुल गया है तभी चेताली की नजर उस पर चली जाती है और कहती है कि वैसे तो यह लोग बड़े ही बदतमीज है लेकिन आज दिवाली है दिवाली के दिन मैंने विश्व कर सकती हूं इससे जान पहचान भी हो जाएगी और आज का दिन तो बहुत ही अच्छा है चेताली उस घर में चली जाती हो जैसे ही अंदर जाती है तब वह कहती है कि यहां पर तो कोई भी नहीं है लगता है यहां से सब जा चुके हैं।

चेताली जैसे ही घर की तरफ लौट रही होती है तभी उसके सामने एक आईना आ जाता है चेताली अपने आप को ही देख कर डर जाती है और कहती है कि मैं तो अपने आप को देख कर ही डर गई चैताली जैसा ही पीछे पलट दी है तभी उस आईने में चेताली का रूप रखकर डायन उस आईने में दिखाई देने लगती है चेताली देखकर डर जाती है और उससे पूछती है कि आखिर तुम कौन हो तभी वो आईने से बाहर आ जाती है चेताली उसे देखकर बहुत ही ज्यादा डर जाती है और वहां से भाग जाती हो और एक अंधेरे कमरे में चली जाती है और वहां पर एक डायन लेडी होती है तभी चेतानी उसे देखकर उससे कहती है कि आप कौन है।

जैसे ही उसे डायन को दिखाया जाता है वह कोई और नहीं बल्कि वेदश्री की हमशक्ल होती है और वह डायन होती है चेताली उसे देखकर डर जाती है और उसे वेदश्री भाभी कहने लगती है और उनसे कहती है कि आप डायन के भेष में तब वह कहती है कि मैं बिजी नहीं हूं बल्कि उसकी जुड़वा बहन हूं तभी चेताली यह बात सुनकर हैरान रह जाती है तब वह बताती है कि मैं वेदश्री की जुड़वा बहन हूं मुझे भी यह बात कुछ ही टाइम पहले ही पता लगी थी जब मेरे पास मेरी मां आई थी और उन्होंने बताया था कि मेरी एक जुड़वा बहन भी है और वह भी हूबहू मेरी तरह ही दिखती है।

यह बात वेदश्री को भी नहीं पता है कि उसकी कोई जुड़वा बहन भी है मेरी मां उसे अपनी तरफ करना चाहती थी और मेरे पास भी आई थी और उन्होंने मुझे बताया था कि अगर वेदश्री और मैं एक साथ मिल जाते हैं तो इस दुनिया में हमसे ताकतवर और कोई नहीं होगा लेकिन मेरी मां की बात उसने नहीं मानी और उसने सिर्फ सच्चाई का रास्ता ही चुना इसलिए मैं यहां पर आई हूं वेदश्री को अपने साथ करने के लिए मेरी मां ने तो एक गलती की थी कि उसने वेदश्री को ही अपना निशाना बनाया था और मैं ऐसी गलती नहीं करूंगी बल्कि वेदश्री के घर वालों को ही अपना निशाना बनाऊंगी जिससे सीतल मेरी तरफ हो जाएगी।

चेताली यह बात सुनकर डर जाती है और उससे कहती है कि मैं घर पर जाकर भाभी को यह बात बताऊंगी तो बहुत ही ज्यादा खुश हो जाएगी मैं जा कर यह बात बता देती हूं डायन हो चेतन को रूकती है और कहती है कि उस घर में जाने के लिए तुम ही मेरी मदद करोगी चेताली यह बात सुनकर डर जाती है और कहती है कि मैं पहले घर वालों को आपके बारे में बता देती हूं आपके बारे में जब घरवाले सुनेंगे तो बहुत ही ज्यादा खुश हो जाएंगे मैं मैं यह खुशखबरी घरवालों को देख कर आती हूं।

मोना सारे घरवालों को बताती है कि मैं यहां पर सिर्फ एक मकसद के लिए आई हूं तुम सही कह रहे हो लेकिन वह तुमसे जुड़ा हुआ नहीं है मैं सिर्फ जानना चाहती हूं कि आखिर यहां पर ऐसी कौन सी डायन है जो इसे घर से कुछ चाहती है तभी सारे घर वाले मोना पर यकीन नहीं करते मोना कहती है कि मेरा यकीन करो यहां आस-पास एक डायन रहती है जिसने देव की भी मदद की थी और यह काला धुआं बगल के घर में जा रहा है तभी सारे घर वाले काले हुए को देते हैं लेकिन वहां पर दुआ दिखाई नहीं देता तभी मोना कहती है कि यहीं पर हुआ था।

पिया मोना की बातों को सुनकर कहती है कि मुझे मोना पर पूरा भरोसा है वह सही कह रही है देव की मदद एक डायन ने की थी अंश कहता है कि हां यह बिल्कुल सही कह रही है जब मैं देव का पीछा करते हुए बगल में के घर में गया था तब देख किसी औरत से बात कर रहा था और मुझे लगता है वही डायन थी हमें चल कर देख लेना चाहिए तभी सारे घर वाले बगल के घर में जाने लगते हैं चैताली जैसे वहां से निकलने की कोशिश करती है तभी वहां पर डायन आ जाती है चेताली को वहां से ले जाती है इतनी देर में सारे घर वाले अंदर जाते हैं और अंदर जाकर चेताली कहती है कि मैं यहां पर पड़ोसियों को विश करने के लिए आई थी लेकिन यहां पर देखा कि यहां पर तो कोई भी नहीं है लगता है यहां से सब जा चुके हैं हमें भी चलना चाहिए यह बात सुनकर परेशान हो जाती है और कहती है कि ऐसा कैसे हो सकता है कि यहां पर कोई भी ना हो।

नमन गहनों को लेने के लिए छोटे पहलवान के घर जाता है तभी वह देखता है कि यह तो झोपड़ी है इसके अंदर कौन से गहने हो सकते हैं नमन जैसे ही अंदर जाता है तभी अंदर जाकर काफी सारे जनों को देखता है तभी वह जग जाता है और कहता है कि यह क्या बात है बाहर से अगर इस झोपड़ी को कोई देखेगा तो बिल्कुल नहीं कह सकता कि अंदर इतना सारा खजाना है मैं तो यहां से खजाने को लेकर चला जाता हूं नमन खजाने को उठाने लगता है तभी वहां पर छोटा पहलवान आ जाता है नमन उसे देखकर उसे कहता है कि तुम ही हो छोटा पहलवान वैसे तुम एक बात बताओ तुम इतनी सी हो और तुमने अपना नाम पहलवान रखा हुआ है पैलवान कहता है कि तुम यहां पर क्या करने के लिए आए हो तभी नमन कहता है कि मैं यहां पर गहने लेने के लिए आया हूं नमन जैसे ही गानों को लेकर छोटे पहलवान से कहता है कि मेरे रास्ते से हट जाओ मुझे झांसी जाना है ।

पहलवान कहता है कि तुम जा सकते हो नमन कहता है कि तुम अगर सामने से हट होगे तू ही मैं जा पाऊंगा छोटा पहलवान कहता है कि मैं तुम्हें जाने से रुकूंगा और पहलवान जैसे ही अपनी छड़ी से नमन को छूता है तभी नगर वहीं पर सोने का बन जाता है थोड़ी देर के बाद वहां पर सनम और उसकी मां नमन को ढूंढते हुए आ जाती है और नमन को घर में घुसकर देख रही होती है तभी सनम वहां पर गैरों को देखकर खुश हो जाती है सनम की मां कहती है कि आखिर नमन है कहां मुंह से बनेंगे कहां तभी वहां पर काफी सारी मूर्तियां होती है तभी सनम कहती है कि यहां पर तो काफी सारी मूर्तियां है कहीं ऐसा तो नहीं उसने मेरे पति को मूर्ति बना दिया है लेकिन यह तो सब एक जैसी लग रही है सनम सारी मूर्तियों को देखती है और उनमें से नमन की मूर्ति दिखाई दे जाती है और वहां पर छोटा पहलवान सोफे पर सो रहा होता है सनम की मां कहती है कि हम चुपचाप अपना काम करेंगे वहां से चले जाएंगे।