Kasauti Zindagi Ki – Written Update – 2 December 2019

Kasauti Zindagi Ki Written Update 2 december 2019 एपिसोड में आप सब देखेंगे कि कैसे सोनालिका जैसे ही अपनी सच्चाई प्रेरणा को बताती है प्रेरणा सोनालिका की सच्चाई जानकर चौक जाती है क्योंकि वह अपने आप को पूरी तरह से साबित कर देती है कि वही कामोलिका है प्रेरणा सोनालिका से कहती है कि तुम अनुराग की वाइफ जरूर हो लेकिन तुम्हारे पास अनुराग का कुछ भी नहीं है मेरे पास तो अनुराग के नाम का मंगलसूत्र भी है और मांग में सिंदूर भी है और उसके प्यार की निशानी मेरे पेट में पल रही है ।

सोनालिका यह शब्द सुनती है तभी वह गुस्से में आ जाती है और वहां से गुस्से में चली जाती है शिवानी जब रॉनित के साथ खड़ी रहती है रोहित शिवानी से कहता है कि तुम अगर मुझसे प्यार करती हो तो अपनी बहन को समझाओ कि वह सोनालिका दी से दूर रहे प्रेरणा इतनी देर में रॉनित के पास आ जाती है और उसे धमकी देती है कि मेरी बहन तुमसे कभी भी प्यार नहीं करेगी इस गलतफहमी में कभी भी मत रहना और मेरी बहन से हमेशा तुम दूर ही रहना इतना कहकर प्रेरणा शिवानी को लेकर वहां से निकल जाती है ।

शिवानी गाड़ी को चलाकर घर की ओर जा रही होती है तभी प्रेरणा शिवानी से कहती है कि मुझे अनुराग के पास जाना है मैं अगर अनुराग को सच्चाई नहीं बता सकती तो क्या हुआ उसके साथ तो रह सकती हूं शिवानी प्रेरणा से कहती है कि दी आपको पहले बताना चाहिए था अनुराग का घर तो पीछे रह गया है शिवानी गाड़ी को पीछे मोड़ लेती है और चली जाती है थोड़ी देर पहले ही सोनालिका गुस्से में घर में आती है मोहिनी सोनालिका का घर पर वेट कर रही होती है ।

Also Read – Kasauti Zindagi Ki Written Update 29  November 2019 in Hindi

सोनालिका को देख कर उसे पूछती है कि आखिर तुम इतनी देर से कहां से आ रही हो मैं तुम्हारा कब से फोन ट्राई कर रही थी तभी सोनालिका गुस्से में कह देती है कि आप मुझे फोन करके बार-बार एडिटेड कर रही है सोनाली कहां से कमरे में चली जाती है यह सब देख रहा होता है और सोनालिका से बात करने के लिए उसके पीछे जाने लगता है मोहिनी अनुराग को रोक लेती है और उससे कहती है कि तुम सोनालिका से कुछ भी मत कहना मुझे लगता है सोनालिका का मूड खराब है इसलिए वह मुझसे ऐसी बातें कर रही है तुम प्लीज उससे कुछ भी मत कहना अनुराग इतना सुनकर वहीं पर रुक जाता है तभी वहां पर प्रेरणा जाती है अनुराग वहां पर प्रेरणा को देखकर बहुत ही ज्यादा खुश हो जाता है।

प्रेरणा को देखकर कहती है कि यह मेरे बेटे का पीछा कभी भी नहीं छोड़ेगी यह फिर से आ गई तभी प्रेरणा अनुराग के पास आती है अनुराग प्रेरणा से कहता है कि अच्छा हुआ कि तुम यहां पर आ गई मुझे तुमसे कुछ काम था इसके बाद अनुराग प्रेरणा को लेकर स्टडी रूम में चला जाता है और वहां पर जाकर प्रेरणा के साथ काम करने लगता है सोनालिका जब कमरे में होती है तभी वह सामान को इधर-उधर फेंक देती है तभी वह कहती है कि मैंने सामान को इधर-उधर फेंक दिया है अगर अनुराग कमरे में आ जाता है तो वह इस सामान को बिखरा हुआ देखकर मुझसे सवाल करने लगेगा मुझे सामान को दोबारा सेट कर देना चाहिए सोनालिका अपने आप को शांत करती है और सामान को पूरी तरह से सेट कर देती है ।

प्रेरणा अनुराग सी कहती है कि अब मुझे चलना चाहिए क्योंकि शिवानी गाड़ी के साथ बाहर खड़ी हुई है और वह मेरा इंतजार कर रही है अनुराग प्रेरणा से कहता है कि तुम अगर चाहो तो कल मत आना क्योंकि हमारे घर तुलसा जी की पूजा होने वाली है उसमें तुम्हारा शायद कोई काम नहीं हो सकता मैं ऑफिस भी नहीं जाऊंगा लेकिन अगर तुम चाहो तो नहीं आ सकती तभी प्रेरणा कहती है कि मैं आ जाऊंगी अनुराग यह सब सुनकर बहुत ही ज्यादा खुश हो जाता है प्रेरणा जब बाहर की ओर जा रही होती है तभी सोनालिका बीच में आ जाती है ।

प्रेरणा को रोक लेती है और उसे चैलेंज कर देती है कि तुम्हें अपने सिंदूर और मंगलसूत्र पर कुछ ज्यादा ही घमंड है तो मैं तुमसे वादा करती हूं कि कल के दिन मैं तुम्हें दिखाऊंगी की अनुराग कैसे मेरे मांग में सिंदूर और गले में मंगलसूत्र चैन आता है कल हमारे घर तुलसा जी की पूजा है तो तुम उस पूजा में जरूर आना मैं तुम्हें इनवाइट कर रही हूं टाइम पर आ जाना और तुम्हारे सामने ही अनुराग मेरी मांग में सिंदूर और गले में मंगलसूत्र पहना आएगा जैसे ही सुबह होती है सोनालिका मोहिनी के कमरे में चली जाती है वह मोहिनी से कहने लगती है कि मम्मी जी आपने मुझसे एक बार कहा था कि अगर मेरी जगह कोई और लड़की होती तो आपसे यह जरूर कहती कि मैं दोबारा शादी करना चाहती हूं लेकिन मैंने आप से मना कर दिया था लेकिन मुझे प्रेरणा की राधे कुछ सही नहीं लग रहे हैं ।

वह अनुराग के करीब जाने की कोशिश करती रहती है लेकिन मैं उसे यह बताना चाहती हूं कि मैं अनुराग की पत्नी हूं और उसी के लिए मैं अनुराग से दोबारा शादी करना चाहती हूं से कल मांग में सिंदूर और गले में मंगलसूत्र बनवाना चाहती हूं सिर्फ प्रेरणा को दिखाने के लिए मैं आपसे जी नहीं कह रही हूं कि आप दोबारा मेरी अनुराग से शादी करवाएं सोनालिका की बातों में आ जाती है और सोनालिका से वादा कर देती है कि वह आज ही सारे मेहमानों के सामने अनुराग से मंगलसूत्र और मांग में सिंदूर की रसम जरूर करवाएगी मोहिनी सोचती है कि अगर मैं यह सारी बातें अभी घर वालों के सामने रखूंगी तो मूल्य मुझे रोकने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे और मुझे यह करने नहीं देंगे इसलिए मैं एंड टाइम पर ही यह सब कुछ करूंगी फिर मुझे नहीं रोक पाएंगे ।

जैसे ही पूजा शुरु होती है अनुराग सोनाली क्या-क्या होता है और गेट की तरफ देखने लगता है और कहता है कि कहीं ऐसा तो नहीं प्रेड़ना आ नहीं रही हो लेकिन उसने तो कहा था कि वह जरूर आएगी अनुपम अनुराग को देखता है तभी वह कहता है कि चाय अनुराग सब कुछ भूल गया हूं दिमाग को कुछ याद हो या ना हो लेकिन दिल तो सिर्फ पढ़ना को ही याद करता ही रहता है और मैं जानता हूं कि अनुराग अभी भी प्रेरणा कोई ढूंढ रहा है तभी वहां पर प्रेरणा आ जाती है अनुराग प्रेरणा को देखकर बहुत ही अदा खुश होने लगता है प्रेरणा अनुराग के बगल में बैठ रही होती है तभी अनुराग अपना हाथ प्रेरणा की ओर बढ़ा देता है और प्रेरणा फिर बैठ जाती है जैसे ही पूजा खत्म होती है ।

मोहिनी सारे मेहमानों के सामने अनाउंसमेंट कर देती है कि मेरे बेटे की शादी बहुत ही जल्दबाजी में हुई थी इसलिए मैं यह चाहती हूं कि अनुराग सोनालिका की मांग में सिंदूर और गले में मंगलसूत्र इसी बीच सबके सामने पहना है तभी प्रेरणा यह सब देख कर चौक जाती है मोहिनी अनुराग को अपने पास बुलाती है और उससे कहती है कि तुम्हें सोनालिका की मांग में सिंदूर भरना होगा और जब मंगलसूत्र पहला ना होगा प्रेरणा इतनी देर में अनुराग को आवाज लगा देती है तभी तो फिर रुक जाती है और सोच में पड़ जाती है कि अगर उसने अनुराग को यह सारी बातें बता दी तो अनुराग की तबीयत और भी ज्यादा खराब हो जाएगी और उसकी जान जाने का भी खतरा है इसलिए मैं उसे सच्चाई नहीं बता सकती ।

सोनालिका प्रेरणा को अपने पास बुलाती है और कहती है कि अनुराग का तुम फोन पकड़ लो ताकि उसे मांग बढ़ने में कोई भी दिक्कत ना हो पाए प्रेरणा अनुराग के पास आ जाती है और कहती है कि मुझे यह सब अनुराग को करने से रोकना होगा मैं जानती हूं कि अनुराग यह सब मजबूरी में कर रहा है लेकिन मैं भी क्या करूं मैं भी कुछ भी नहीं कर सकती तभी प्रेरणा की नजर वहां पर रखे पंखे पर पड़ जाती है प्रेरणा चुपचाप जाकर उस पंखे को चला देती है उस पंखे की हवा से वहां पर रखे एक थाल में धूप उड़ने की वजह से सारे मेहमानों की आंखों में चली जाती है और जैसे ही उसको बंद करने के लिए आगे बढ़ता है और अनुराग का पैर फिसल जाता है और वह प्रेरणा के ऊपर गिर जाता है और अनुराग के हाथों में जो सिंदूर होता है वह प्रेरणा की मांग में बढ़ जाता है यह सब देख कर चौक जाती है और प्रेरणा के गले में जो मंगलसूत्र होता है वह निकल कर बाहर गिर जाता है सोनालिका प्रेरणा की मांग में सिंदूर भरा हुआ देखती है तभी वह चौक जाती है ।

Add Comment