Kasauti Zindagi Ki – Written Update – 16 December 2019

Kasauti Zindagi Ki Written Update 16 december 2019 Episode में आप सब देखेंगे कि कैसे सोनालिका डिसाइड करती है कि वह अब खुद जाकर प्रेरणा के बच्चे को मारेगी रोनक जल से सारी बातें सुनता है तभी वह अपनी बहन को समझाने की कोशिश करता है और उसे बताता है कि यह इतना आसान नहीं है यहां पर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं उसमें सब कुछ रिकॉर्ड हो जाएगा सोनालिका बताती है कि मैं इतनी बेवकूफ नहीं हूं मैं नर्स की ड्रेस में जाऊंगी इसके बाद कोई भी मुझे पहचान नहीं पाएगा और इसका एग्जाम किसी और पर आ जाएगा और और कोई नर्स फस जाएगी हम अपना काम करके चुपचाप निकल जाएंगे।

Advertisement

सोनालिका चेंजिंग रूम में जाकर नर्स वाले कपड़े पहन लेती है और बाहर निकल आती है और रॉनित को अपने पास बुलाती है और उससे कहती है कि तुम मुझे रूम नंबर 1 में मिलना है इतना कहकर वहां से सोनालिका निकल जाती है और प्रेरणा के कमरे में चली जाती है प्रेरणा के कमरे में अनुराग जब होता है तभी वह सोचता है कि अभी तक डॉक्टर क्यों नहीं आए मैं खुद जाकर उन्हें बुला लेता हूं अनुराग इतनी देर में वहां से निकल जाता है सोनाली का मौका पाकर अंदर चली जाती है और प्रेरणा को धमकी देने लगती है कि अब तुम्हारे बच्चे को मुझसे कोई भी नहीं बचा पाएगा मैं तुम्हारे पेट को चीर कर उस बच्चों को निकाल कर उसके पेट में चाकू मार दूंगी पहले तो सोनालिका उस बच्चे को मारने के लिए चाकू प्रेरणा के पेट में घुसने नहीं वाली होती है लेकिन वह रुक जाती है और कहती है कि मैं इस बच्चे को मारना नहीं चाहती लेकिन अगर तुम चुपचाप पहले ही एक्सीडेंट में मर जाती तो मुझे यह बेरहमी से तुम्हारे बच्चों को मारना नहीं पड़ता।

Advertisement

Also Read – Kasauti Zindagi Ki Latest News

अनुराग डॉक्टर के पास जाता है और डॉक्टर को बताता है कि आपने जो डॉक्टर प्रेरणा के चैप्टर के लिए भेजा था मुझे वह डॉक्टर पसंद नहीं आया मैं यह चाहता हूं कि आप ही प्रेरणा का इलाज करें तभी वह डॉक्टर सोच में पड़ जाता है और अनुराग को बताता है कि मैंने तो किसी डॉक्टर को प्रेरणा के चेकअप के लिए नहीं भेजा है अनुराग पहले तो चौक जाता है लेकिन इस बात को अनुराग इग्नोर कर देता है और डॉक्टर को कहता है कि आप एक बार प्रेरणा को चेकअप कर लीजिए डॉ अनुराग के संग वहां से चला जाता है प्रेरणा से मिलने के लिए सोनालिका प्रेरणा पर जैसे ही बार करने वाली होती है तभी वहां पर डॉक्टर के साथ अनुराग पहुंच जाता है सोनालिका अपना फेस को छुपाने के लिए पीछे की तरफ घूम जाती है तभी डॉक्टर से पूछता है कि आखिर तुम कौन हो यहां पर क्या कर रही हो सोनालिका बताती है कि मैं डॉ सुमित को आशीष कर रही हूं डॉ सोनाली कमरे से जाने के लिए बोल देता है और उसे बताता है कि मेरी तो खुद ही टीम है मेरी टीम इस काम को करेगी और कोई भी मुझे नहीं चाहिए सोनालिका को कमरे से जाने के लिए डॉक्टर बोल देता है सोनालिका गुस्से में वहां से निकल आती है और सीधे रॉनित के पास चली जाती है।

Advertisement

सोनालिका रॉनित के पास होती है तभी वह बुरी तरह से परेशान होती है और गुस्से में भी होती है तभी वह गाड़ी से कैसी है कि वह दिन मेरे हाथ कंट्रोल नहीं हो रहे हैं देखो मैं किस तरह से कांप रही हूं गुस्से के कारण मुझे उस डॉक्टर ने कमरे से बाहर निकाल दिया है मैं प्रेरणा के बच्चे को नहीं मार पाई सोनालिका बहुत ही ज्यादा गुस्से में होती है इतनी देर में डॉ अनुराग से कहता है कि अभी तक मेरे स्टाफ ने मुझे प्रेरणा की रिपोर्ट लाकर नहीं पी है मैं भी जा कर देखता हूं डॉक्टर इतना कहकर वहां से निकल जाता है सोनालिका जिस कमरे में होती है तभी वहां पर कमरे के बाद डॉक्टर सोनालिका को दिखाई दे जाता है सोनालिका उसे देखकर गुस्से में आ जाती है तभी वह रोने से कहती है कि इस डॉक्टर ने मुझे कमरे से भेज करके निकाला है और इसकी वजह से मैं आज अपने मकसद में कामयाब नहीं हो पाई हूं अब इसको तुम बिल्कुल मत छोड़ना मैं नहीं चाहती कि यह मेरे रास्ते में आए।

रॉनित रोते हुए बाहर जाता है और डॉक्टर से कहता है कि मेरी बीवी प्रेग्नेंट है और आप उसका इलाज कीजिए वह बहुत ही ज्यादा तकलीफ है डॉक्टर उसकी बातों में आ जाता है और कमरे में सोनाली का उस डॉक्टर का इंतजार कर रही होती है डॉक्टर जैसे ही आगे बढ़ता है सोनालिका उसके सिर पर प्लेट मार देती है जिसकी वजह से नीचे गिर उसी में गिर जाता है सोनालिका रॉनित से कहती है कि डॉक्टर को ठिकाने लगाओ ताकि इसे कोई देख ना पाए और डॉक्टर की ड्रेस पहनकर तुम भी बाहर आ जाओ मैं जब तक प्रेरणा के बच्चे को खत्म करने के लिए जा रही हूं इतना कहकर सोनालिका वहां से निकल जाती है प्रेरणा की मां और बहन वहां हॉस्पिटल में पहुंच जाते हैं और प्रेरणा के पास जाकर उसकी हालत को देखकर परेशान हो जाते हैं प्रेन्ना की मां उसकी हालत को देख नहीं पाती और बुखार आ जाती है थोड़ी देर के बाद अनुराग भी आ जाता है और प्रेरणा की मां को समझाने की कोशिश करता है इतनी देर में नर्स वेश रखकर सोनालिका कमरे में चली जाती है और प्रेरणा को मारने की कोशिश करती है।

तेरे को इतनी देर में हल्का सा जाता है और वह सोनालिका की बात सुनने लगती है सोनालिका कहती है कि इसका मतलब तुम मेरी बात सुन सकती हो अच्छा हुआ कि तुम मेरी बात सुन सकती हो तुम्हें पता लग जाएगा कि आखिर तुम्हारे बच्चों को मारा किसने है मैं तुम्हारे पेट में चाकू डालकर तुम्हारे बच्चे को खत्म कर दूंगी और इससे तुम भी खत्म हो जाओगी मैं तुमसे बड़ी परेशान हो गई हूं अनुराग जब तक तुम्हारे साथ होता है तब तक उसे पता नहीं क्या फील होने लगता है और मैं इस बात से बहुत ही एडिटेड हो चुकी हूं तभी वहां पर शिवानी की मां शिवानी से पूछती है कि क्या अनुराग की वाकई में 2 साल की मेमोरी चली गई है उसे प्रेरणा के बारे में कुछ भी नहीं पता कि उसके पेट में जो बच्चा है वह अनुराग का ही है कमरे में जब जा रहा होता है तभी वहां पर प्रेरणा की मां अनुराग से बात करती है और उसे पूछती है कि क्या तुम्हें 2 सालों में जो हुआ तुम्हें कुछ भी याद नहीं है जरा सा भी अनुराग कहता है कि मुझे जरा सा भी कुछ भी याद नहीं है क्या आप मुझे कुछ बताना चाहती है तो आप मुझे बता सकती है लेकिन अन्ना की मां जब कुछ बताने वाली होती है तभी वहां पर अनुराग के पिता मूलोए अनुपम पहुंच जाते हैं।

मूलोए अनुराग से पूछते हैं कि प्रेरणा कैसी है और कहां पर है अनुराग बताता है कि प्रेरणा अभी तो ठीक है और वह कमरे में है मूलोए कमरे में प्रेरणा को देखने के लिए जैसे ही जा रहे होते हैं तभी वहां पर रोने तो आ जाता है और उन दोनों को रोक लेता है लेकिन रोने को कोई भी पहचान नहीं पाता क्योंकि वह उसने अपने मुंह पर मास्क लगा रखा होता है जिसकी वजह से कोई भी उसे पहचान नहीं पता रॉनित उन सब से कहता है कि अभी पेशेंट को आमूलोए करने दीजिए पेशेंट को आमूलोए की बहुत ही ज्यादा जरूरत है तभी अनुराग कहता है कि हमें डॉक्टर से मिल लेना चाहिए मूलोए भी कहते हैं कि हां मैं उन डॉक्टर को अच्छी तरीके से जानता हूं चलो हम जाकर उनसे मिल लेते हैं जैसे मूलोए अप्रेंडा की मां डॉक्टर से मिलने के लिए कमरे में जाते हैं लेकिन वहां पर डॉक्टर नहीं होता नरसंहार करने के लिए बोल देती है अनुराग को कुछ शक होता है और वह प्रेरणा के कमरे की तरफ बढ़ने लगता है लेकिन शिवानी अनुराग को वहां से जाता हुआ देख लेती है तभी वह कहती है कि अनुराग जा कहां रहा है तभी शिवानी की नजर रॉनित पर पड़ जाती है।

Advertisement